दरभंगा ब्लास्ट: अब एनआईए कर सकती है जांच, बड़े कनेक्शन के बाद तारों को जोड़ना बनी चुनौती

दरभंगा स्टेशन पर हुए धमाके के तार अब बड़े कनेक्शन की ओर इशारा कर रहे हैं. माना जा रहा है कि इस बड़ी साजिश की आशंका को देखते हुए अब एनआईए दरभंगा विस्फोट की जांच कर सकती है।

दरभंगा ब्लास्ट: अब एनआईए कर सकती है जांच, बड़े कनेक्शन के बाद तारों को जोड़ना बनी चुनौती

दरभंगा स्टेशन पर हुए धमाके के तार अब बड़े कनेक्शन की ओर इशारा कर रहे हैं. माना जा रहा है कि इस बड़ी साजिश की आशंका को देखते हुए अब एनआईए दरभंगा विस्फोट की जांच कर सकती है। इस मामले की जांच जल्द ही एनआईए को सौंपे जाने की संभावना है। अब तक की जांच में इस धमाके के पीछे किसी बड़ी आतंकी साजिश और पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI से इसके संबंध होने के पुख्ता सबूत मिले हैं। साथ ही साजिश में शामिल संदिग्धों के बिहार, तेलंगाना और उत्तर प्रदेश के होने के कारण जांच की जिम्मेदारी एनआईए को सौंपी जा सकती है।

आपको बता दें कि तेलंगाना के सिकंदराबाद स्टेशन से ट्रेन से दरभंगा के लिए एक पार्सल भेजा गया था। 17 जून को दरभंगा स्टेशन पर जब पार्सल उतारा जा रहा था तो प्लेटफॉर्म पर कम क्षमता का धमाका हो गया। विस्फोट का कारण किसी को समझ नहीं आया। जीआरपी के बाद एटीएस और एफएसएल इसकी जांच में लगे थे। पार्सल में कपड़ों के अलावा एक शीशी थी जिसमें कुछ केमिकल रखा हुआ था। यह धमाका इसी केमिकल की वजह से हुआ। हालांकि अब तक की जांच में यह पता नहीं चल पाया है कि कौन सा केमिकल था। शीशी और उसके नमूने जांच के लिए एफएसएल हैदराबाद भेजे गए हैं।

तीन राज्यों की एटीएस विस्फोट की जांच में जुटी है। सूत्रों के मुताबिक अब तक चार संदिग्धों को हिरासत में लिया गया है। यह कार्रवाई देश के अलग-अलग हिस्सों में की गई है। जांच एजेंसियां ​​हिरासत में लिए गए संदिग्धों के बारे में कोई खुलासा करने से बच रही हैं। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि मामले के पीछे बड़ी आतंकी साजिश और इसके पाकिस्तान से संबंधों के चलते जांच का दायरा बढ़ सकता है। इसलिए उम्मीद है कि जल्द ही एनआईए को इस विस्फोट की जांच की जिम्मेदारी मिल जाएगी।