देश में अब 6 से 12 साल के बच्चों पर होगा कोरोना वैक्सीन का ट्रायल, कल एम्स में होगी स्क्रीनिंग

एम्स में बच्चों पर कोरोना वैक्सीन के ट्रायल की प्रक्रिया चल रही है। 12 से 18 वर्ष की आयु के कई बच्चों को कोवैक्सीन की पहली खुराक दी गई है। इसी क्रम में अब सोमवार को 6 से 12 साल के बच्चों की स्क्रीनिंग की जाएगी।

देश में अब 6 से 12 साल के बच्चों पर होगा कोरोना वैक्सीन का ट्रायल, कल एम्स में होगी स्क्रीनिंग

एम्स में बच्चों पर कोरोना वैक्सीन के ट्रायल की प्रक्रिया चल रही है। 12 से 18 वर्ष की आयु के कई बच्चों को कोवैक्सीन की पहली खुराक दी गई है। इसी क्रम में अब सोमवार को 6 से 12 साल के बच्चों की स्क्रीनिंग की जाएगी। इस उम्र के बच्चों को वैक्सीन देने के बाद दो से छह साल के बच्चों की स्क्रीनिंग का काम शुरू हो जाएगा। दरअसल, देश के कई अस्पतालों में दो से 18 साल के बीच के 525 बच्चों की वैक्सीन का टेस्ट किया जाना है। इससे पहले एम्स में 12 से 18 वर्ष आयु वर्ग के 30 बच्चों की जांच की गई थी, जिसमें से कई बच्चों को वैक्सीन देने के बाद दूसरी श्रेणी के बच्चों की जांच की जाएगी। स्क्रीनिंग रिपोर्ट आने के बाद 6 से 12 साल के बच्चों को भी डोज दी जाएगी। इसके बाद दो से छह साल के बीच के बच्चों की संख्या आएगी।

इस हफ्ते 12 से 18 साल के बच्चों पर ट्रायल शुरू

एम्स में बुधवार को 12 से 18 साल के बच्चों पर वैक्सीन का ट्रायल शुरू हुआ। डोज के बाद सभी को घर भेज दिया गया। हालांकि एम्स के विशेषज्ञ बच्चों के स्वास्थ्य की जानकारी उनके माता-पिता से लेते रहेंगे। 28 दिनों के बाद एंटीबॉडी की जांच के बाद उन्हें दूसरी खुराक दी जाएगी। इससे पहले इन बच्चों का स्वास्थ्य परीक्षण किया गया। जांच रिपोर्ट में पूरी तरह स्वस्थ पाए जाने के बाद उन्हें वैक्सीन की डोज दी गई।

आईएमए करेगा प्रदर्शन

18 जून को, इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (IMA) 18 जून को देश भर में डॉक्टरों के खिलाफ हिंसा और हमले की घटनाओं का विरोध करेगा। IMA के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेए जयलाल ने कहा कि IMA देश भर के 724 कोरोना योद्धा डॉक्टरों को श्रद्धांजलि देता है, साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि उन्होंने साफ तौर पर कहा है कि टीकाकरण के खिलाफ कुछ भी बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।