बिहार में अब 6 जुलाई से खुलने लगेंगे स्कूल-कॉलेज, आज बारिश और आंधी का येलो अलर्ट

बिहार में अनलॉक से जुड़ी ये आज की सबसे बड़ी खबर है। शर्तों के साथ बाजार खुलने के बाद अब शिक्षण संस्थानों की बारी है।

बिहार में अब 6 जुलाई से खुलने लगेंगे स्कूल-कॉलेज, आज बारिश और आंधी का येलो अलर्ट
बिहार में अनलॉक से जुड़ी ये आज की सबसे बड़ी खबर है। शर्तों के साथ बाजार खुलने के बाद अब शिक्षण संस्थानों की बारी है। कोरोना महामारी के संक्रमण के हालात सामान्य रहे तो छह जुलाई के बाद चरणबद्ध तरीके से प्रदेश में शैक्षणिक संस्थान खोले जाएंगे। इस संबंध में रविवार को शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी ने जानकारी दी। उन्होंने स्पष्ट किया कि अगर स्थिति में सुधार जारी रहा तो बच्चों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए सरकारी और निजी स्कूल और कॉलेज खोलने की तारीख शर्तों के साथ तय की जाएगी। फिलहाल शिक्षा विभाग के स्तर से शिक्षण संस्थान खोलने की तैयारी चल रही है।
 
पहले चरण में खुलेंगे उच्च शिक्षण संस्थान
 
शिक्षा मंत्री ने कहा कि सभी बच्चों की सुरक्षा सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है. बच्चों की जान जोखिम में डालकर शिक्षण संस्थान नहीं खोले जा सकते। 6 जुलाई के बाद पहले चरण में विश्वविद्यालय और कॉलेज खुलेंगे। दूसरे चरण में माध्यमिक और उच्च माध्यमिक विद्यालयों (कक्षा 9वीं से 12वीं) के बच्चों के लिए कक्षाएं शुरू की जाएंगी, तीसरे चरण में प्राथमिक और मध्य विद्यालय (कक्षाएं) मैं से आठवीं)। अन्य शिक्षण संस्थानों में छात्रों की उपस्थिति को लेकर शिक्षा विभाग की ओर से विशेष गाइडलाइन जारी की जाएगी। कक्षा में एक दिन में 50 प्रतिशत विद्यार्थी ही उपस्थित होंगे। बाकी 50 फीसदी अगले दिन आएंगे। सभी जिलों में कोरोना प्रोटोकॉल का कड़ाई से पालन कराया जाएगा।
 
बच्चों की शिक्षा को लेकर सरकार गंभीर
 
शिक्षा मंत्री ने कहा कि राज्य सरकार सभी बच्चों की शिक्षा पर गंभीरता से विचार कर रही है। हम शैक्षणिक संस्थान भी खोलना चाहते हैं क्योंकि कोरोना महामारी के संक्रमण के चलते स्कूल-कॉलेज समेत अन्य शिक्षण संस्थान लगातार बंद हैं और इससे बच्चों की पढ़ाई बाधित हो रही है। खासकर छोटे बच्चों की शिक्षा की प्रक्रिया टूट जाती है, जिसे वापस पटरी पर लाना मुश्किल हो जाता है। उच्च कक्षाओं के छात्रों पर अपनी पढ़ाई की जिम्मेदारी होती है, लेकिन छोटे बच्चे स्कूल के साथ-साथ शिक्षकों और सहपाठियों के साथ बातचीत के माध्यम से बहुत कुछ सीखते हैं।